बारिश

June 28, 2018

ये बारिश नहीं, बादलों का इश्क़ है,
जो ज़मीन पे बेइन्तेहाँ बरसता है,
ज़मीं का दिल दरख्तों में फूलों में
धड़कता है, महकता है, चहकता है…
~ निधि

Advertisements

Hak hai humein …

January 24, 2018

Hak hai humein ke sapne dekhein,
sapne aanchal bhar khushiyon ke,
Chhote chhote pal jivan ke,
Jinmein muskane ka hak hai,
Aur khul ke gaane ka hak hai,
Fikr ki galiyaron se bach kar,
kaale andhiyaron se bach kar,
Soch ko zehen ki chaukhat se,
door kahin le kar chalte hain,
ke humko bhi jeene ka hak hai,
bheench ke aakhein, khol ke bahein,
kudrat ko mehsoos kiya to,
pata laga ke kya khoya tha,
lahron mein khali panv nachna,
titliyon ke peechhe bhagna,
bebak hasna aur befikr sona,
bindaas khud se ishq mein hona,
hak hai humein ke waqt chura lein,
aur dhoondh lein kahin ek kona,
duniyadari aur hod se door,
wo ek salona sukoon ka kona,
jahan rahat ho, sukoon ho, pyaar ho,
jahan har din ek tyohaar ho,
wo kahin aur nahin mann ke bheetar hai,
khud se ab milne ka waqt hai.

~ Nidhi

Zaroori hai…

January 24, 2018

behad zaroori hai saanson ka chalna,
dil ka dhadak.na,
lahoo ka ragon mein behte jana,
din ka dhalna,
Raat ka aana,
utna hi zaroori hai,
dil mein jazbaaton ka hona,
yadon ka hona,
likhna… aur likhte jana,
ke inse apne hone ka pata milta hai…

~ Nidhi

Milkiyat

January 23, 2018

 

Sau armaan,
Hazaar khwaab,
Karodon Ummedin,
Tamaam intezaar,
Muththi bhar zindagi,
Ginti ki saanse,
Chand lamhein,
Ek Dil,
Bus itni hi milkiyat !

~ Nidhi

 

Ijaazat

October 8, 2016

Ek lamhein mein,
Sadiyan jee loon,
Ho ijaazat to tujhe,
Aankho se pi loon,
Dil ke har kone mein,
Teri yaadein si loon,
Haule se naam tera,
In labon se chho loon…

~ Nidhi

अभिलाषा…

July 5, 2016

 

उनको क्या समझाऊँ सखी री, दो नैनन की भाषा,
पलकों के घूंघट में सिमटी है मन की अभिलाषा…

~ निधि

Vichaar

June 28, 2016

==============================================

अगर आपके पास…
प्यार करने वाली फैमिली,
कुछ ख़ास दोस्त,
आपका पसन्दीदा खाना,
और सर पर छत है
…..तो यकीन मानिए
जितना आप सोचते हैं,
उससे कहीं ज़्यादा अमीर हैं..

==============================================

Sher

June 28, 2016

======================================
मेरे ही हाथों पर लिखी है तक़दीर मेरी
और मेरी ही तक़दीर पर मेरा बस नहीं.
======================================
“एक जैसी ही दिखती थी माचिस की वो तीलियाँ..
कुछ ने दिये जलाये और कुछ ने घर !!
======================================
क्यो ना गुरूर करू मै अपने आप पे…
मुझे उसने चाहा जिसके चाहने वाले हजारो थे!
======================================
नजरों से दूर हो कर भी यूं तेरा रूबरू रहना;
किसी के पास रहने का सलीका हो तो तुम सा हो
======================================
रिश्तों में इतनी बेरुख़ी भी अच्छी नहीं हुज़ूर,
देखना कहीं मनाने वाला ही ना रूठ जाए तुमसे
======================================
ना रख किसी से मोहब्बत की उम्मीद
ख़ुदा की कसम लोग खूबसूरत बहुत है, पर वफ़ादार नही
======================================
कितने दिन गुजर गये और तुमने याद तक ना किया
मुझे नहीं पता था की इश्क़ में भी छुट्टीयां होती है…..
======================================
Tujhe chand to keh doon,
Par lagta hai, log tujhe raat bhar dekhenge,
Aur ye…mujhe manzoon nahin…
======================================
तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा था
खबर तो रहती….सफर तय कितना करना है
======================================
बेबसी किसे कहते है ये पूछो उस परिंदे से,
जिसका पिंजरा रखा भी तो खुले आसमान के तले !!
======================================
अपने दिल से कह दो किसी और से मोहब्बत की ना सोचे,
एक मैं ही काफी हूं सारी उम्र तुम्हे चाहने के लिए !!!
======================================
काश कोई अपना हो, आईने जैसा,
जो हसे भी साथ और रोए भी साथ..
======================================
तेरी दुआओ का दस्तुर भी अजब है मेरे मौला,
मुहब्बत उन्ही को मिलती है जिन्हे निभानी नही आती…
======================================
कुछ इसलिए भी नहीं करते हाल ए दिल बयां
समझता कोई नहीं समझाता हर कोई है।
======================================
मसला ये नहीं कि दर्द कितना है ,
मुद्दा तो ये है कि परवाह किसे है !

======================================

Sher

June 28, 2016

=========================================
उसे अपना बनाने की जिद में,,,
अपने भी पराये किये हमने.
=========================================
कुछ लोग आए थे मेरा दुख बाँटने,
मैं जब खुश हुई तो खफा होकर चल दिये !!
=========================================
लहजा शिकायत का था,
मगर
सारी महफ़िल समझ गई,
मामला मोहब्बत का है…
=========================================
उसके नरम हाथों से फिसल जाती हैं चीज़ें,
मेरा दिल भी लगा है हाथ उसके,
खुदा खैर करे….!
=========================================
कल सुबह से कुछ अनबन चल रही थी दोनों के दरमियान
किवाड़ बंद करके अपने घर के दोनों मूंह फुलाये बैठे थे

रात को शायद झगडा बहुत बढ़ गया होगा
तब ही तो घर छोड़ दिया था उसने

न उसने रोका, और ना वो रुकी
शायद “ego problem” होगा दोनों को

आसमान का घर छोड़ के, झगड़ के निकली बरसात
कल पूरी रात शहर की मेरे, ख़ाक छानती रही

~ प्रेरक व्यास
=========================================
पल भर दिले पहलू में उतरने का शुक्रिया,
आँखों में नए ख्वाब जगाने का शुक्रिया,
हम जानते हैं बंदिशों के फलसफे मगर,
कुछ रोज़ दिल की आस बढाने का शुक्रिया…
~ कुमार विश्वास
=========================================
परिन्दों को नहीं दी जाती तालीम उड़ानों की..
वो खुद ही तय करते हैं मंजिल आसमानों की..
रखते हैं जो होसला आसमां को छूने का..
उनको नहीं होती परवाह गिर जाने की..!!!
~ कुमार विश्वास
=========================================
“थक गया चाँद,ढली रात, सितारे टूटे ,
एक और बार कई ख्वाब हमारे टूटे …..”
~ कुमार विश्वास
=========================================
Mohabbat me buri neeyat se kuch socha nhi jaata,
Kaha jata h usko bewfa samjha nahin jaata..
~ कुमार विश्वास
=========================================
Ke mere jine mai marne main, Tumhara naam aayga,
Main sansen rok loon fir bhi, Yahi ilzam aayga…
Har ak dhadkan mein jab tum ho to fir apraadh kya mera,
Agar Radha pukaregi to fir Ghanshaam aayega…
~ Kumar Vishwas
=========================================
Kitni duniya hai mujhe zindagi dene wali
Aur ek khwab hai tera ki jo mar jata hai
Khud ko tarteeb se jodun to kaha se jodun
Meri mitti me jo tu hai ki bikhar jata hai …
~ Kumar Vishwas
=========================================
मेरे शिकवों पर उसने हँस के कहा
फ़राज़ …किसने की थी वफ़ा जो हम करते ……
~फ़राज़
=========================================

Vichaar

June 28, 2016

=========================================
कभी कभी ज़िन्दगी में ये तय करना बड़ा मुश्किल हो जाता है की गलत क्या है …?
“वो झूठ जो चेहरे पर मुस्कान लाये ”
या
“वो सच जो आँखों में आंसू लाये ”
फैसला आपका ……
=========================================
लोग कहते हैं, ईश्वर नज़र नहीं आता,
पर सच तो ये है की – एक वो ही नज़र आता है, जब कोई नज़र नहीं आता…
=========================================